ब्लूटूथ का आविष्कार किसने और कब किया

   क्या आप जानना चाहते हैं कि ब्लूटूथ का आविष्कार किसने और कब किया तो आप एकदम सही पोस्ट बनाए हैं क्योंकि इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा कि ब्लूटूथ का आविष्कार कब किया गया जैसे कि आप जानते हैं कि लगता है दुनिया में हर चीज का निर्माण किया जाता है उसी में से ठीक एक ब्लूटूथ है |

bluetooth ka avishkar kisne kiya

पहले के समय में किसी भी प्रकार की डाटा भेजने के लिए तार की एक जान होती थी जिसमें आप उस के माध्यम से किसी के पास अपने डाटा को भेज सकते थे क्योंकि पहले के समय तार के ही फोन काम आते थे|लेकिन आज के समय में एक मोबाइल से दूसरे मोबाइल में डाटा भेजने के लिए ब्लूटूथ डिवाइस का इस्तेमाल किया जाता है|


लेकिन कुछ समय पहले ब्लूटूथ को डाटा ट्रांसफर के लिए इस्तेमाल जाता था लेकिन आज के समय में डाटा भेजने के अलावा ब्लूटूथ डिवाइस को किसी दूसरे कामों के लिए इस्तेमाल किया जाता है आज के समय में दुनिया के किसी भी डिवाइस के साथ ब्लूटूथ को कनेक्ट किया जा सकता है|

मोबाइल का आविष्कार किसने किया

Telephone का आविष्कार किसने

 इसे हम यूं ही कह सकते हैं कि बिना ब्लूटूथ के बगैर इंटरनेट कनेक्शन इसके अलावा कोई भी डाटा को ट्रांसफर नहीं कर सकते हैं उदाहरण के लिए मैं आपको बता दूं म्यूजिक, वायरलेस हेडफोन, मोबाइल,लैपटॉप इत्यादि से आप कनेक्ट कर सकते हैं इसके अलावा आप इंटरनेट भी इस्तेमाल कर सकते हैं|


 ब्लूटूथ क्या है?


 ब्लूटूथ एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जिसके मदद से आप किसी भी प्रकार का डाटा ले सकते हैं और भेज सकते हैं हम ब्लूटूथ की मदद से है audio,videos,graphics,files,image इत्यादि आप आसानी से ले सकते हैं|


अगर हम दूसरे wireless communication की बात करें तो उसके तुलना में है डाटा ट्रांसफर करने की डिस्टेंस बहुत ही कम होती है, कहने का मतलब यह है कि बहुत ही कम दूरी पर आप इससे डेटाकोर ट्रांसफर कर सकते हैं ब्लूटूथ डिवाइस के इस्तेमाल करने से आप किसी भी प्रकार के हैं adapters,cords,cables की कोई जरूरत नहीं है|


ब्लूटूथ device एक प्रकार के Wireless technology हैं जिसके इस्तेमाल से फाइल डाटा को ट्रांसफर किया जा सकता है तो आइए हम इस के अविष्कार के बारे में जानते हैं|


ब्लूटूथ का आविष्कार किसने और कब किया

ब्लूटूथ का आविष्कार सन 1994 में hartson ने किया था hartson जी ने जी समय ब्लूटूथ का आविष्कार किया था तो उस समय नीदरलैंड्स के रेडियो प्रणाली एम्मेन जगह पर काम करते थे hartson जी रेडियो आविष्कारक है| 

 ऐसे कहा जाता है कि hartson ने ब्लूटूथ का नाम Scandinavia Baltenend अंग्रेजी शब्दों में लिखे थे लेकिन फिर भी ऐसा माना जाता है कि ब्लूटूथ का नाम 10 वीं शदी में एक राजा का Herald Bluetooth Blanket का नाम पर लिया गया था इसका 20 मई 1999 में ब्लूटूथ स्पेशल इंटरेस्ट ग्रुप की शुरुआत किया गया था इसका स्थापना में कुछ मुख्य ऐरिसोंन,इंटेल,नोकिया,आई बी एम और तोशिबा के द्वारा मिलकर किया गया था|

बल्ब बल्ब का आविष्कार किसने किया 

माउस का आविष्कार किसने किया

इस Technology मार्केट में बहुत ज्यादा popularity मिली सन 2008 में 5% मोबाइल डिवाइस को ब्लूटूथ मिला था लेकिन आज के समय में बात किया जाए तो मोबाइल डिवाइस के अंदर 97% ब्लूटूथ डिवाइस मिलता है।

इसका मुख्य रूप से 5 वर्जन है जो कि मैं आपको नीचे बताने वाला हूं।


1.Version 1.1,1.2,2.0 plus EDR,3.0 Plus HB और Version 4 आया था ब्लूटूथ Version 1.1 के पास ज्यादा स्पीड नहीं था इसलिए बारी-बारी करके हर स्पीड को अपडेट किया गया।


ब्लूटूथ के जनक कौन है?

ब्लूटूथ का आविष्कारक सन 1994 में हार्टसन के द्वारा हुआ था उस समय यह रेडियो कंपनी में काम करते थे। इसलिए ब्लूटूथ का आविष्कारक का पूरा क्षेय इसको जाता है।

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया

ब्लूटूथ का उपयोग क्या है?

ब्लूटूथ का उपयोग क्या क्या है इसके बारे में मैं आपको बताता हूं ब्लूटूथ एक वायरलेस कनेक्टिविटी टूल है इसके इस्तेमाल से bluetooth को कनेक्ट (pair) किया जाता है.


जिसके इस्तेमाल से यह परस्पर आदान प्रदान करें उदाहरण के लिए आप भी ना हेडफोन छुए ब्लूटूथ से कनेक्ट कर सकते हैं वह आसानी से बात कर सकते हैं।


ब्लूटूथ किसका उदाहरण है?

ब्लूटूथ परसनल एरिया नेटवर्क लोकल एरिया नेटवर्क और यह वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क है।

निष्कर्ष:-

मुझे उम्मीद है कि आपको ब्लूटूथ का आविष्कार किसने किया और कब किया? बारे में पूर्ण रूप से जानकारी मिल गया होगा फिर भी आपको इससे कोई भी जुड़ी सवाल है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं और मैं आपका कॉमेंट का इंतजार करूंगा।


प्रिय पाठक अगर हमारे द्वारा लिखे गए कांटेक्ट में कोई भी गलती हो तो आप हमें कमेंट करके आप इस आर्टिकल को फिर से एडिट करवा सकते हैं।


अगर आपके पास थोड़ा सा भी समय है तो आप इस आर्टिकल को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर करना ना भूलें क्योंकि आर्टिकल लिखने पर बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ती हैं तो आप से यही अनुरोध है कि आप इस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर फोरम पर शेयर करना ना भूले


Post a Comment

0 Comments