मॉनिटर का आविष्कार किसने और कब किया

 क्या आप जानना चाहते हैं मॉनिटर का आविष्कार किसने और कब किया शायद आप इसके बारे में नहीं जानते हैं तो कोई बात नहीं मैं आपको इसके बारे में बताऊंगा जैसे कि मॉनिटर क्या है मॉनिटर का आविष्कार किसने किया सभी जानकारी इस आर्टिकल में मिल जाएगा।

monitor ka avishkaar kisne kiya

आज के समय में टेक्नोलॉजी की मांग बहुत ही तेजी से बढ़ रही है आप किसी भी जगह जाओ चाहे ऑफिस हो या कार्यालय या फिर कोई भी जगह हो जहां पर आप को मॉनिटर और कंप्यूटर के माध्यम से काम करते हुए दिखाई देंगे। हम मॉनिटर के साथ ज्यादा टाइम बैठकर बिताते हैं क्योंकि हम उस पर gaming या movies देखते हैं इसके अलावा हम बहुत कुछ करते हैं ठीक इसी प्रकार मॉनिटर का इस्तेमाल Computer system में एक display unit के तरह होता है.

एक बढ़िया display बहुत ही ज्यादा Attractive हो सकता है, किसी भी यूजर के लिए Display Technologies में अच्छा होने से display device की क्वालिटी भी काफी हद तक हो जाती हैं. अभी आपको computer के monitor में बहुत से quality मिलती हैं उनमें इस्तेमाल technology के इस्तेमाल से जैसे की CRT monitor से लेकर latest slim LCD,LED और OLED monitors इत्यादि.

वाईफाई का आविष्कार किसने किया

ब्लूटूथ का आविष्कार किसने किया

किसी भी Monitor की प्रदर्शित करने के लिए कई parameters आवश्यकता होती है जैसे की refresh rate,luminance, contrast ratio,dot pitch, resolution, response time,  और ऊर्जा की खपत के साथ में जो समस्या उत्पन्न होते हैं,monitor में वो हैं phosphor-burn,blurred screen,dead pixels इत्यादि. इसलिए मैं सोचा की क्यों ना आप लोगों के मॉनिटर क्या है? इसके बारे में पुरी जानकारी दिया जाये । इससे आपको भी जो कुछ पता नहीं होगी वो पता चल जायेगी, तो आइए हम जानते हैं इसके बारे में कि Computer Monitor in Hindi Fanda क्या है.

मॉनिटर क्या है? (what is monitor in Hindi)

Computer monitor के VDU कहा जाता है यह एक प्रकार के एक output device होता है जो की CPU की सभी जानकारी Monitor Screen में प्रदर्शित करता है जो की CPU और user के बीच एक cable से connect किया जाता है जिसे हम video card या video adaptor के साथ computer के motherboard के साथ setup किया जाता है.

Monitor दिखाना है मैं बहुत ही सम्मान होता है जिसे televisions के साथ. लेकिन इन दोनों में कुछ अंतर होता है जो कि ये monitor में television बैंड नहीं होता है channel को बदलने के लिए वही television में होता है. Monitors में higher display resolution होता है television की तुलना में भी एक high display resolution छोटे letter और बढ़िया ग्राफिक्स को देखने के लिए सुविधा प्रदान करती हैं.

एक मॉनिटर को हम कुछ नाम से जानते हैं जैसे कि video display terminal,screen,video display unit,display, video display,video screen इत्यादि नाम से जाना जाता है।


मॉनिटर का आविष्कार कब और किसने किया?

मॉनिटर का आविष्कार Karl Ferdinand Braun ने किया था सन 1897 में जब उन्होंने पहला cathode ray tube invent किया था इसलिए मॉनिटर अविष्कार के पूरा से क्षेय Karl Ferdinand Braun को जाता है।


मॉनिटर का काम क्या होता है?

मॉनिटर एक प्रकार के display adapter है जो की computer के video card से तैयार किया गया यह सभी जानकारी को display करता है. जब video card और graphics card convert करता है तो जानकारी को binary से 1s से कम टाइम में photo को आसानी से और Direct ही connected monitor में display किया जा सकता है.


इसलिए Computer Monitor का main function होता है जो कि यह वीडियो को डिस्प्ले show करना graphical कि जानकारी जो की computer के graphics adapter से generate करता है. इससे users के computers के साथ interact करने के लिए सुविधा उपलब्ध करता है. इसमें एक output device के हिसाब से categorize किया जाता है. यह monitor के एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग होता है जो कि पूरे computer system हैं इसे कभी कभी video display unit भी कहा जाता है।


मुझे उम्मीद है कि आपको पता चल गया होगा कि मॉनिटर क्या है?मॉनिटर का क्या काम है? मॉनिटर का आविष्कार किसने किया? यह सब के बारे में जानकारी आपको मिल ही गया होगा तो आइए अब हम जानते हैं इसके बारे में थोड़ा कुछ और भी।

कीबोर्ड का आविष्कार किसने किया

मॉनिटर का दूसरा नाम क्या है?

मॉनिटर का दूसरा नाम virtual display unit कहा जाता है यह कंप्यूटर के लिए एक निर्मित इलेक्ट्रॉनिक virtual display हैं जो कि मॉनिटर के डिस्प्ले उपकरण Circuitry और एक enclosure मे शामिल हैं।


मॉनिटर का प्रकार

Computer Monitors के बहुत सारे प्रकार है जिसे हम इस्तेमाल करते हैं इस आर्टिकल में मैं आपको मॉनिटर के बारे में ऐसे प्रकार बताने वाला हूं जो कि आप अभी भी इस्तेमाल किये जा रहे हैं तो आइए हम इसके बारे में पूरा विस्तार से जानते हैं।


LCD Monitors:-यह एलसीडी मॉनिटर screen monochrome pixels का इस्तेमाल करता हैं क्योंकि इस images के project करना है ये pixel से systematically arrange किया जाता है यह पारदर्शी इलेक्ट्रोड हैं और polarized के filter के बीच जब pixels polarized होते हैं ।


यह एलसीडी मॉनिटर ना के बराबर बिजली का खपत करता है और ये बहुत ही ज्यादा  बेहतरीन graphics quality दिखाता है. ज्यादा monitors जिन्हें अभी हम सब उपयोग करते हैं उनमें Liquid Crystal Display का इस्तेमाल किया हुआ है इसका स्क्रीन साइज 17 इंच से 60 इंच के बीच में होता है।


CRT Monitor:- इस monitor को cathode ray tube के लिए इस्तेमाल किया जाता है इमेज को डिस्प्ले पर प्रदर्शित करने के लिए  इस cathode ray tube के निर्माण किया गया है जैसे कि electron guns,vacuum tube, heaters,deflection circuits और एक glass screen का इस्तेमाल होता है. जब इसमें electrons के produce किया जाता है तो cathode ray tube के अन्दर तब screen को इन electrons के मदत से bombard किया जाता है जिससे वो glow करती हैं और images produce होती है. CRT monitor older television set को resemble करते हैं. वो bulky होते हैं जबकी इसके साथ में बहुत सारा energy consume करते हैं.


LED Monitor:-

LED Monitor का खासियत यह है कि Light Emitting Diode  के higher contrast वाली image को उत्पादन करता है| यह महंगाई बहुत है लेकिन यह जाट चलते समय गर्मी पैदा नहीं करते है| इसमें बहुत कम power का इस्तेमाल होता है यह Environment Friendly भी होते है और बहुत अच्छा भी है।


Plasma Monitors:- 

Plasma technology यह कांच की बनी होती है जीसे display device की इसके पीछे की जो basic idea होती है वो ये रौशनी प्रदान करती है करती हैं यह  tiny colored fluorescent lights को जिससे image pixels बनाती हैं।

मोबाइल का आविष्कार किसने किया

Telephone का आविष्कार किसने

OLED Monitors :-

Organic Light Emitting यह एक अच्छा तकनीक है. display devices की जैसे कि आपको इसके नाम से पता चलता है यह खास किस्म के मटेरियल से बना है (जैसे कि carbon, wood, plastic या polymers) से बनी हुई होती है|, और जिनका इस्तेमाल electric current को light में convert करने के लिए किया जाता है।


 LED इतने capable होते है कि ये कई प्रकार के कलर पैदा करता है इसलिए इनका इस्तेमाल directly किया जाता है correct color को produce करने के लिए और इसमें कोई backlight की आवश्यकता नहीं पड़ती है जिससे ये दोनों power और space को बचाता है|


इसकी समय के प्रक्रिया फास्ट होने के कारण wide viewing angles, outstanding contrast levels और perfect brightness के होने से यह OLED display अभी तक की सबसे बढ़िया display technologies मानी जाती है।


मॉनिटर का इतिहास

अभी तक से सभी जानकारी इस आर्टिकल में जान चुके हैं अब आइए हम जानते हैं मॉनिटर के इतिहास के बारे में, वैसे तो सबसे पहला CRT technology का इस्तेमाल करके cathode ray rube के आधार के आधार पर 1992 में बनाया गया था लेकिन मॉनिटर का कमर्शियल वर्जन 1954 में आया था।


सबसे पहले मॉनिटर 1964 में बनाया गया था दरअसल वह पूरी तरह से मॉनिटर ना होने के कारण एक मशीन कहा जाता था जिसे Uniscope 300 था आपके जानकारी के लिए मैं बता दूं कि इस मशीन के सबसे पहले इस्तेमाल built-in CRT display किया गया था।


 1 मार्च 1973 में सबसे पहला सफल कंप्यूटर मॉनिटर ‘ज़ेरॉक्स अल्टो कंप्यूटर’ बनाया गया और यह दुनिया का सबसे पहला मॉनिटर भी कहा जाता है यह भी CTR टेक्नोलॉजी पर काम करने वाला एक मॉनिटर था उस समय सीटीआर बहुत ही लोकप्रिय था उस समय कंप्यूटर मॉनिटर के सीटीआर से बना था।


ऐसा कहा जाता है कि 2000 साल सीटीआर मॉनिटर राज किया है लेकिन वह समय डिस्प्ले बनाने का नया-नया तकनीक का इस्तेमाल किया जाता था लेकिन एलसीडी डिस्प्ले का निर्माण 1977 में James P. Mitchell के द्वारा किया गया था लेकिन एलसीडी मॉनिटर का अविष्कार 30 साल बाद हुआ था।

निष्कर्ष:-

मुझे उम्मीद है कि आपको मॉनिटर का आविष्कार किसने और कब किया  इसके बारे में पूर्ण रूप से जानकारी मिल गया होगा फिर भी आपको इससे कोई भी जुड़ी सवाल है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं और मैं आपका कॉमेंट का इंतजार करूंगा


प्रिय पाठक अगर हमारे द्वारा लिखे गए कांटेक्ट में कोई भी गलती हो तो आप हमें कमेंट करके आप इस आर्टिकल को फिर से एडिट करवा सकते


अगर आपके पास थोड़ा सा भी समय है तो आप इस आर्टिकल को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर करना ना भूलें क्योंकि आर्टिकल  लिखने पर बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ती हैं तो आप से यही अनुरोध है कि आप इस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर फोरम पर शेयर करना ना भूले हैं।।

Post a Comment

0 Comments