बैटरी का आविष्कार किसने और कब किया

 क्या आप जानते हैं बैटरी का आविष्कार किसने और कब किया अगर नहीं तो आप इस आर्टिकल को पूरा अंत तक अवश्य पढ़ें क्योंकि मैं इस आर्टिकल में बताया हैं कि बैटरी की खोज किसने किया वो जानकारी हिंदी में।


हमारे दैनिक जीवन बैटरी का उपयोग बहुत ज्यादा किया जाता है बिना बैटरी को तो लगता है कि हमारी लाइफ पूरी तरह से अधूरी है आधुनिक समय में हम लोग बैटरी पर इतना निर्भर हो गए हैं कि खुद सोच नहीं सकते है बिना बैटरी की जीवन की कल्पना करना बहुत मुश्किल लगता है।

battery-ka-avishkar-kisne-kiya

आधुनिक समय में हमारे फोन में इस्तेमाल होने वाली बैटरी हैं अगर नहीं रहती है तो पूरा दिन हम हैं लगता है कुछ ना कुछ खो दिया यही नहीं बैटरी से चलाने वाले हमारे घर की लाइट और अन्य उपकरण है जो कि बिना बैटरी की पूरी अधूरी है मान लीजिए कि हमें ऑनलाइन पढ़ाई करना है तो हमें कंप्यूटर, मोबाइल, टेबलेट इत्यादि है अगर उसके बैटरी नहीं है तो बिल्कुल बेकार है। और हम ऑनलाइन पढ़ाई नहीं कर सकते है।


बिना बैटरी के बगैर हम कुछ भी नहीं कर सकते चाहे कितना भी बड़ा बिजनेसमैन हो या छोटा सबके पास बैटरी होता है वैसे क्या आप जानते हैं कि बैटरी का आविष्कार किसने किया और कब किया अगर नहीं जानते हैं तो आप इस आर्टिकल के माध्यम से सारा जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।


बैटरी क्या है? ( What is battery in Hindi)

बैटरी एक प्रकार से स्टोर बॉक्स है जिस बक्से में विद्युत ऊर्जा को स्टोर किया जाता है यह एक ऐसी युक्ति है जो कि रासायनिक ऊर्जा के विद्युत ऊर्जा में रूपांतरित कर देती है ये  बैटरी रासायनिक अभिक्रिया द्वारा संचालित किया जाता है जिसमें विद्युत ऊर्जा प्रवाहित करके बैटरी में स्टोर किया जाता है।


यह रासायनिक reactor के मदत से कितना भी दूर यात्रा को इलेक्ट्रॉनिक वाहन से पूरी कर सकते हैं आज के समय में बैटरी की अनेक प्रकार की Verity मार्केट में उपलब्ध है और यही नहीं बैटरी की इस्तेमाल हर गाड़ी और इलेक्ट्रॉनिक में किया जाता है यानी कि यूं ही कह सकता है कि बिना बैटरी के कुछ भी नहीं कर सकते हैं।

बैटरी का आविष्कार किसने किया?

benjamin frankley ने सन् 1749 में पहली बार बैटरी नाम का शब्द के इस्तेमाल कीजिए क्योंकि यह विद्युत-सम्बन्धी प्रयोगों के लिये जिन linked capacitors का उपयोग करते थे तो उन्होंने उसे बैटरी नाम दिया और उसने पहली बैटरी 1800 में alejandro volta द्वारा बनाई  गई थी।


उन्होंने पहली बैटरी बनाने के लिए जस्ता और पेस्टबोर्ड या नमकीन से लथपथ कपड़े, और चांदी के भारी परतों Stacking के इस्तेमाल में लिया गया उस समय इस बैटरी के एक बार प्रयोग करके फेंकना पड़ता था उस समय इस बैटरी में के कारण था कि इसे एक बार इस्तेमाल करने के बाद फेंकना पड़ता था उसे दोबारा इस्तेमाल नहीं कर सकते थे।


सन् 1836 में एक इंग्लिश Chemist रिचार्जेबल बैटरी का आविष्कार किया गया इस बैटरी में lead acid का इस्तेमाल किया गया इस बैटरी के कभी भी इस्तेमाल किया जा सकता था उस समय इस बैटरी की काफी मांग होगी क्योंकि इस बैटरी को दोबारा से चार्ज किया जा सकता था और इसे उपयोग में लाया जा सकता था।


और इसके बाद धीरे-धीरे बैटरी में काफी सुधार हुआ जो की पावर सेव करने की क्षमता अधिक बढ़ गई आधुनिक समय में आपको बहुत छोटी बैठे देखने को मिलेगी लेकिन उसके अंदर की पावर की क्षमता बहुत काफी होती है जो कि लंबे समय तक चल सकती है।


बैटरी का इस्तेमाल इतना ज्यादा बढ़ गया है कि 2005 के आंकड़े के अनुसार पूरी दुनिया में बैटरी उद्योग 48 बीलियन डॉलर की सेल करती हैं और यह  6% वार्षिक के साथ वृद्धि होती है तो आप खुद अदाजा लगा सकते हैं की किस तरह बैटरी की मांग  बढ़ रही है।

बैटरी के प्रकार

बैटरी निम्न प्रकार होते हैं जैसे कि आप नीचे देख सकते हैं।

  • The Lead Acid Battery
  • The Lithium Ion Battery
  • The Nickel Cadmium (NiCd) Battery
  • The Nickel-Metal Hydride (NiMH) Battery
  • The Lithium Polymer Battery

बैटरी के अविष्कारक कौन है?

बैटरी के अविष्कारक Alessandro Volta और John Stringfellow हैं।

ये भी पढ़े:-

वाशिंग मशीन का आविष्कार किसने किया

फ्रिज का आविष्कार किसने किया

कार का आविष्कार किसने किया

हेलीकॉप्टर का आविष्कार किसने किया

निष्कर्ष:-

मुझे उम्मीद है कि आपको बैटरी का आविष्कार किसने किया इसके बारे में पूर्ण रूप से पता चल गया होगा अगर आपको इसके अलावा और भी सवाल है तो आप हमें कमेंट में बता सकते हैं मैं आपका सवाल की पूरी रिप्लाई देने की कोशिश करूंगा।


अगर हमारे द्वारा लिखे गए आर्टिकल में कहीं पर भी गलती हो तो आप हमें कॉमेंट के जरिए उस आर्टिकल को एडिट करवा सकते हैं।


दोस्तों अगर हमारे आर्टिकल आपको पसंद आया तो इस आर्टिकल को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर करना ना भूलें क्योंकि दोस्तों एक आर्टिकल लिखने में बहुत ज्यादा मेहनत करना पड़ता है इसलिए आपसे अनुरोध है कि आप इस आर्टिकल को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अवश्य शेयर करें।

Post a Comment

0 Comments